टेनज़िरइंग वाला प्यार साला होता ही ऐसा है

आलू चकालु बेटा कहाँ गए थे ,आलू की टोकरी में सो रहे थे ,बैगन ने लात मारा रो रहे थे। 15 साल का सोनू और टिनो मुँह में बबलगम चबाये मस्त मौज़ में चले जा रहा था। इतराइये भी भला क्यों नही 15वा जो चढ़ा था । आगे कोने में मुड़ते ही सोनू का चेहरा लाल हो चूका था। टिनो सब भाप चूका था। अरे !! बेटा रानिया का घर देखते ही चमक ! ! ..”लौंडे के अरमान तो देखो “. यह सुनकर सोनू थोड़ा खिज़ा भरकते हुए बोला “एक मुक्का मरेंगे
ना सब होशयारी झर जायेगा ” और सीधा रानी घर जा के रुका । घर देखते ही उसने तो पुरे संसार का सपना सजा लिया था। टेनज़िरइंग वाला प्यार साला होता ही ऐसा है । खुद का होश संभाला और डोरबेल बजाया।
कुछ पल में एक सूंदर से लड़की बाहर निकल के आयी बाकायदा सोनू के लिए वह देवी थी पर टीनू के लिए वह 20 साल की मॉडर्न लड़की थी । रानी थी वह उसने मुस्कराते हुए पूछा -क्या हुआ बाबू ? यह सुन कर सोनू समझ नही पा रहा था बाबू का मतलब वह कुछ और निकले या फिर खुद को बच्चा समझे। सोनू यह बोल पाया -मम्मी आज काम पर नही आ पायेगी बीमार है । रानी ने भी कुछ नही कहा बस चिल्ला के बोली -माँ आज काम वाली नही आ पायेगी । रानी की मम्मी ने भी बस येही कहा कलमुही आज फिर नही आयी । सोनू तो यह सुनने की सकती भी नही रख सका की उसकी मम्मी को बस अभी कलमुही कहा गया है वह तो रानी को अप्सरा और खुद को इंद्रा समझ उसको बस देखा जा रहा था तभी रानी पूछ पड़ी कैसी चल रही है तुम दोनों की पढाई ? यह सुनकर टीनू मन सोचो -ले लोटा क्या पूछ ली यह तो गया यह तो गोबर है गोबर पढ़ने में । . 17 का पहारा पूछ इससे “इसकी आशिक़ी का जनाज़ा येही पर उठ जायेगा (बेस्ट फ्रेंड ऐसे ही तो होते है ) . सोनू बोला अच्छा चल रहा है। रानी अच्छा बोलो मेरा एक काम करोगें ? सोनू तो बस हाँ हाँ आप बस बोलिये . रानी बोली आगे के गली में सूरज भैया होंगे उनको यह चिठ्ठी दे देना। यह लो चॉक्लेट किसी को बताना नही यह बोल रानी अंदर चली गए थी। सोनू के पास चॉक्लेट था चिठ्ठी थी और उसका टुटा हुआ दिल सामने मनहूस दोस्त चिढ़ाने को बेक़रार। .बक्क साला यह चॉक्लेट हम नही खाएंगे लड़की धोखा दे गए सूरज भैया के साथ खुल ली। टीनू बस यही बोला “लौंडे के अरमान ही बिखर गए। .सोनू थोड़ा मुस्कराया और फिर हँसते हुई बोला तलाक तलाक तलाक। चिठ्ठी फाड़ कूड़ेदान में दाल मस्त दोनों दोस्त चॉक्लेट कहते हुए घर के तरफ चल पड़े।
– नितिका

About the author

Related

JOIN THE DISCUSSION