नज़रिया

हम होते नहीं, हो जाते हैं - स्ट्रगलर। जिंदगी की सुलझती- उलझती गलबहियों के दरम्यान, किसी धड़कते से. Continue reading